Ads Area

REET 2020:- BED-BSTC मामले पर NCTE ने किसके पक्ष में दिया है जवाब...देखे विस्तृत रिपोर्ट

 Jaipur

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित की जा रही REET 2020 की परीक्षा में लेवल 1 में लेवल 2 अभ्यर्थियों को शामिल करने, NCTE की गाइडलाइंस को ड्राप करने सहित अनेक मामलों पर विभिन्न याचिकाएं लगी हुई है।

जहाँ आज BSTC अभ्यर्थी द्वारा NCTE की गाइडलाइंस को चुनोती देने वाली एक याचिका में आज सुनवाई हुई जिसमें NCTE ने अपना काउंटर जवाब पेश किया तथा अब जवाब पर बहस के लिए अगली सुनवाई 20 अप्रैल 2021 को होंगी।

राजस्थान में REET 2020 के पदों को 50 हजार करने की मांग की जा रही है क्या आप जानते है कि कितने पद खाली है...देखने के लिए इस लिंक पर जाए:-

                 clickhere

राजेन्द्र कुमार बनाम NCTE मामले पर आज NCTE की तरफ से ASG ने काउंटर जवाब का एफिडेविट पेश किया।

आइए जानते है कि बीएड BSTC मामले पर NCTE ने किसके पक्ष में जवाब दिया है।

राजस्थान एकलव्य मॉडल आवासीय स्कूलों में निकली सीधे प्रिंसिपल एवं  वाइस प्रिंसिपल के सैकड़ो पदों पर भर्ती तथा पोस्ट ग्रेजुएट टीचर, एवं TGT के 2 हजार से अधिक पदों पर भर्ती...विस्तृत जानकारी के लिए इस लिंक पर जाए:- clickhere

राजस्थान में REET 2020 की विज्ञप्ति के साथ ही बीएड BSTC मामले ने तूल पकड़ ली तथा न्यायालय के अंतरिम आदेश के बाद बीएड के अभ्यर्थियों सेआवेदन लिए गए जिस मामले पर अंतिम फैसला होना बाकी है।

आज NCTE ने अपने काउंटर जवाब के पैरा 3 में कहा कि पिटीशनर द्वारा याचिका दायर कर NCTE द्वारा 26 जून 2018 को गाइडलाइंस को चुनोती दी गयी है जिसमे लेवल 1 में bed के अभ्यर्थियों को शामिल करने तथा ब्रिज कोर्स का प्रावधान किया गया गया।

REET 2020 के ग्रुप से जुड़ने के लिए इस लिंक पर जाए:- clickhere

REET 2020 की परीक्षा तिथि बदलाव के बाद दुबारा फॉर्म भरने कब शुरू होंगे तथा इस मामले पर बोर्ड अध्यक्ष की प्रेस कॉन्फ्रेंस के वीडियो को देखने के लिए इस लिंक पर जाए

                  clickhere

NCTE ने कहा कि उक्त पिटीशन के समस्त दावे नियम एवं कानून के खिलाफ है तथा उक्त गाईडलाईन को चुनोती देने का कोई विशेष आधार नही है।

NCTE के जवाब की पीडीएफ को डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर जाए:-

                 clickhere

NCTE ने कोर्ट में दिए काउंटर जवाब में कहा कि NCTE नियमो को बनाने वाली मुख्य संस्था है तथा इसके नियम मानने बाध्यकारी है...AICTE VS धवन कुमार मामले पर NCTE, AICTE के प्रावधानों की मानने की प्रक्रिया तय हो चुकी थी।

NCTE के अनुसार RTE 2009 के अनुरूप शिक्षक भर्ती लेवल 1 एवं लेवल 2 के लिए योग्यता का निर्धारण एवं नियम NCTE द्वारा बनाये जाते है तथा शिक्षा समवर्ती सूची का विषय है जहाँ केंद्र एवं राज्य दोनों कानून एवं नियम बना सकते है लेकिम विवाद की स्थिति में केंद्र के नियम ही प्रभावी होंगे।

NCTE ने पैरा 9 में अपने जवाब में स्पष्ठ कह दिया कि राजस्थान सरकार ने REET 2020 का जो विज्ञापन जारी किया है वो नियमो के खिलाफ है जिसमे NCTE के नियम की अवहेलना की गई है।

राजस्थान पंचायती राज रूल्स 1996 में भी NCTE के अनुरूप ही चयन प्रक्रिया को रखा गया है।

राजस्थान पंचायतीराज रूल1996 में क्या है REET की योग्यता एवं चयन प्रकिया देखने के लिए इस लिंक पर जाए:-

                clickhere

अंत मे NCTE ने कहा कि NCTE द्वारा उक्त गाइडलाइंस में स्पस्ट है कि BED के अभ्यर्थी लेवल 1 के लिए योग्य है तथा उन्हें ब्रिज कोर्स का प्रावधान है तथा न्यायालय से मांग की कि NCTE की गाइडलाइंस को चुनोती देने वाली याचिका को खारिज किया जाए।

अब NCTE के जवाब सहित अन्य मसलो पर 20 अप्रेल को सुनवाई होंगी तथा उसके बाद ही स्पस्ट होंगा की निर्णय क्या होता है।

हालांकि NCTE के जवाब से स्पष्ठ है कि BED-BSTC मामले पर उन्होंने पूर्ण रूप से बीएड का पक्ष लिया है।